ड्रग तस्करो और महिला अपराधियों से हिमाचल की जेले ओवरलोड

Spread the love

शिमला

देश भर में हिमाचल पहला राज्य जंहा कैदियों को दो शिफ्टों में दिया जाता रोजगार

हिमाचल के जेले ड्रग्स तस्करो और महिला के खिलाफ अपराध करने वालो से ओवरलोड हो गई है । राज्य की जेलो में 41.5 फीसदी कैदी ड्रग्स के और 20.6 फीसदी महिला अपराध के कैदी बंद है। हैरत यह की राज्य की 15 जेलो में बंद 2560 कैदियो में सबसे ज्यादा 1205 कैदी ड्रग्स

तस्करी के और 598 कैदी महिला अपराध के है । या यूं कहे कि महिलाओं के खिलाफ अपराध करने वालो और ड्रग्स तस्करो से जेले भर गई है । शिमला एक्सप्रेस बात अगर करे जेलो में बंद एनडी एंड पीएस अधिनियम (ड्रग्स) मामलों के कैदियो की तो राज्य की जेलो में 1205 कैदी है जिनमें विचारधीन 930 और हैं 275 कैदी सजायाफ्ता है यानी जेलो में बंद कैदियो की संख्या के 41.5 फीसदी कैदी ड्रग्स के ही है । इसी तरह राज्य की जेले महिला के खिलाफ अपराध करने वालो से भी भर रही है । महिलाओं के खिलाफ (सीएडब्ल्यू) अपराध में जेलों में 598 कैदी बंद है , जिनमें 333 विचाराधीन और 265 सजायाफ्ता है । यानी जेलो 20.6 फीसदी कैदी महिला के खिलाफ अपराध करने के आरोप में बंद है ।

प्रदेश की जेलो को ओवरलोड होता देख प्रदेश पुलिस विशेष रूप से महिला और एनडी एंड पीएस अधिनियम के मामले पर ध्यान केंद्रित कर रही है। इन मामलो के मामलों के शीघ्र निपटान के लिए और महिलाओं के खिलाफ अपराध/पॉक्सो

मामले, मजबूत परीक्षण प्रबंधन प्रणाली अपनाई जा रही है। ऐसे मामलो के केस मूल्यांकन की एक साप्ताहिक निगरानी प्रणाली स्थापित की गई है और रोबस्ट ट्रायल प्रबंधन प्रणाली शुरू की गई है। एनडी एंड पीएस अधिनियम के मामलों

और महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामलों को जल्द निपटाने का प्रयास किया जा रहा है । हिमाचल प्रदेश पुलिस महिलाओं के खिलाफ अपराध और एनडी एंड पीएस

मामले की जांच को प्राथमिकता के आधार पर कर रही है ।

 

यह है जेले और कैदियो के रखने की क्षमता

 

हिमाचल में मौजूदा समय में 15 जेलें है। बदी, बिलासपुर ,चंबा ,हमीपपूर कांगड़ा ,किन्नौर, कुल्लु, मंडी ,नुरपूर, शिमला सिरमौर ,सोलन और उना जेले है । बदी में 166, बिलासपुर में 244, ,चंबा 147, हमीपपूर 67, कांगड़ा 355, किन्नौर 26 , कुल्लु 33, मंडी ,125, नुरपूर 29 , शिमला 621, सिरमौर 471 ,सोलन 102 और उना जेल में 174 कैदियो के रखने की क्षमता है । इन जेलो में 2560 कैदियो के रखने की क्षमता है और जेलो में 2901 कैदी बंद है ।

 

बिलासपुर में है एकमात्र ओपन एयर जेल

 

हिमाचल में एकमात्र ओपन एयर जेल बिलासपुर में ही है जहंा पर जेलों में बंद करीब 150 कै दियों को जेलों से बाहर मजदूरी के लिए भेजा जाता है लेकिन जेल विभाग द्वारा ओपन एयर जेल में उन्ही कैदियों को रखा जाता है

जिनका आचरण सही हो । इसके अलावा प्रदेश की हर जेलों में एक एक बैरक ओपन एयर जेल का बनाया

गया है ।

 

 

देश भर में हिमाचल पहला राज्य जंहा कैदियों को दो शिफ्टों में दिया जाता रोजगार

 

देश भर में हिमाचल ऐसा पहला राज्य है जहंा की जेलों में बंद कैदियों को दो शिफ्टों में रोजगार दिया जाता है । हिमाचल को छोड़ देश का ऐसा कोई राज्य नहीं है जहंा कैदियों को रोजगार देने के लिए ऐसी सुविधा प्रदान की गई हो । हिमाचल की जेलों की काल कोठरी में बंद ऐसे 150 के करीब ऐसे कैदी है जिनके हाथों से भले ही जाने अनजाने में गुनाह हुआ हो लेकिन वही खुखार कैदी जेलों से बाहर जाकर भी मजदूरी कर रहे है । राज्य की जेलों में बंद कैदियों को सरकार द्वारा तय न्यूनतम वेतन के हिसाब से ही मजदूरी दी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *