भाजपा और जयराम ठाकुर महिला विरोधी.. जगत नेगी बोले चुनाव आचार संहिता लगने से पहले पूरी हो चुकीं योजना लागू करने की औपचारिकताएं

Spread the love

शिमला

भाजपा और जयराम ठाकुर महिला विरोधी : जगत नेगी

 

-इंदिरा गांधी प्यारी बहना सुख सम्मान निधि के तहत मिलने जा रहे 1500 रुपये से बौखलाहट में विपक्ष

 

-चुनाव आचार संहिता लगने से पहले पूरी हो चुकीं योजना लागू करने की औपचारिकताएं

 

शिमला। राजस्व व बागवानी मंत्री जगत सिंह नेगी ने कहा है कि भाजपा और नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर महिला विरोधी हैं। इंदिरा गांधी प्यारी बहना सुख सम्मान निधि के तहत महिलाओं को मिलने जा रहे 1500 रुपये से विपक्ष पूरी तरह बौखला गया है। इस योजना का लाभ प्रदेश में पहली अप्रैल 2024 से प्रदान करने की औपचारिकताएं चुनाव आचार संहिता लागू होने से पहले पूरी हो चुकी हैं।

नेगी ने कहा कि योजना के लिए बजट का प्रावधान किया जा चुका है, मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है। योजना को लागू करने की अधिसूचना सरकार जारी कर चुकी है। अगर महिलाएं अब फार्म जमा कर रही हैं तो भाजपा और जयराम ठाकुर क्यों विरोध कर रहे हैं। उन्हें महिलाओं को बताना होगा, क्या वह चाहते हैं कि 18 साल से अधिक आयु की पात्र बेटियों, बहनों और माताओं को इस योजना का लाभ नहीं मिलना चाहिए। नेता प्रतिपक्ष को लोकसभा चुनाव व विधानसभा उपचुनाव में भाजपा की हार साफ नजर आ रही है, इसलिए वह महिलाओं के विरोध में आ खड़े हुए हैं। प्रदेश की महिला शक्ति उन्हें इस विरोध का मुंहतोड़ जवाब देगी और आगामी चुनावों में भाजपा को चारों खाने चित करेगी।

जगत सिंह नेगी ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री को महिला हितैषी योजनाओं का विरोध करना शोभा नहीं देता। उन्हें तो इसका समर्थन करना चाहिए था, लेकिन वह दलगत राजनीति करते हुए इस योजना का विरोध कर रहे हैं। भाजपा व जयराम ठाकुर इसलिए भी विरोध कर रहे हैं, चूंकि कांग्रेस यह कांग्रेस की गारंटी थी जिसे सरकार ने अपने सवा साल के कार्यकाल में ही पूरा कर दिया है। विपक्ष सरकार की जनहितकारी योजनाओं को पचा नहीं पा रहा है। मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने सवा साल के कार्यकाल में अभूतपूर्व कार्य किया है, दस में से पांच गारंटियों को भी पूरा कर दिया गया है। इससे भाजपा नेता बौखलाहट में हैं, उन्हें सुक्खू सरकार का व्यवस्था परिवर्तन रास नहीं आ रहा। भाजपा व जयराम ठाकुर को हिमाचल प्रदेश के हित में लागू की जा रही नीतियों का विरोध करने से पहले सोच विचार कर लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *