नारकंडा से सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल 2024 शुभारंभ, 100 कि.मी. के ट्रेल में धावक 30 पंचायतों में देंगे मतदान के महत्व की जानकारी

Spread the love

शिमला

 

सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल 2024’ का नारकंडा से शुभारंभ

 

100 कि.मी. के ट्रेल में धावक 30 पंचायतों में देंगे मतदान के महत्व की जानकारी

 

 

दि हिमालयन एक्सपीडिशन (दि) द्वारा 12 से 14 अप्रैल, 2024 तक नारकंडा से सराहन ‘सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल 2024’ का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के ट्रेल धावक हिस्सा ले रहे हैं। उल्लेखनीय है कि इस आयोजन को लोकसभा चुनाव-2024 के लिए स्वीप गतिविधि में शामिल किया गया है, जिसमें धावक लोगों को मतदान के लिए जागरूक करेंगे।

ट्रेल को आज नारकंडा से अतिरिक्त उपायुक्त शिमला अभिषेक वर्मा तथा जिला एवं सत्र न्यायधीश रामपुर बीरेन्द्र ठाकुर ने संयुक्त रूप से झंडी दिखाकर रवाना किया।

अभिषेक वर्मा ने कहा कि यह आयोजन बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें साहसिक गतिविधि के साथ-साथ पर्यटन, पुराना भारत-तिब्बत मार्ग और स्वीप गतिविधि को जोड़ा गया है। इस गतिविधि में जहां एक ओर साहसिक खेलों और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा वहीं पुराने पारम्परिक सिल्क रूट (पुराना भारत-तिब्बत मार्ग) का जीर्णोद्धार होगा। इसी प्रकार स्वीप के तहत धावकों द्वारा ट्रेल में पड़ने वाली 30 पंचायतों में लोगों को मतदान करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। इसके अतिरिक्त, इस ट्रेल में बच्चे भी हिस्सा ले रहे हैं जोकि युवाओं और अन्य लोगों के लिए प्रेरणा के स्त्रोत होंगे।

जिला एवं सत्र न्यायाधीश रामपुर बीरेन्द्र ठाकुर ने भी उपस्थित प्रतिभागियों को संबोधित किया और उन्हें नशे और उसके दुष्प्रभावों बारे विस्तृत जानकारी दी।

*कार्यक्रम में हैं चार चुनौती पूर्ण श्रेणियां, 190 प्रतिभागी ले रहे हिस्सा*

इस ट्रेल में धावकों को पुराने भारत-तिब्बत व्यापार मार्ग पर चुनौती पूर्ण और दिलचस्प अवसर प्रदान होंगे। यह ट्रेल रन, अब तक का चौथा संस्करण है, जो प्रतिभागियों और दर्शकों को एक रोमांचक अनुभव देते हुए हिमालय के प्राचीन और जंगली इलाकों से होकर गुजरेगा। इस कार्यक्रम में चार चुनौती पूर्ण श्रेणियां होगी, जिसमें 100 कि.मी, 55 कि.मी, 33 कि.मी और 15 कि.मी के ट्रैक शामिल है। सभी श्रेणियों की शुरुआत नारकण्डा से होगी जिसमें 15 किलोमीटर ट्रेल बागी से संपन्न होगा और 33 किलोमीटर ट्रेल लाफूघाटी में संपन्न होगा। इसी प्रकार, 55 किलोमीटर ट्रेल नरेन और 100 किलोमीटर ट्रेल सराहन में संपन्न होगा। इस प्रतियोगिता में लगभग 190 प्रतिभागी भाग ले रहे हैं, जिनमें भारतीय सशस्त्र बल के साथ-साथ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के ट्रेल धावकों और लगभग 80 स्कूली बच्चे (जो 18 वर्ष से कम आयु वर्ग में भाग लेंगे) की भागीदारी शामिल है। सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल 2024 में फ्लैगशिप रेस एकदिवसीय 100 कि.मी. अल्ट्रा ट्रेल मैराथन है।

यह प्रतिष्ठित अल्ट्रा ट्रेल दौड़ प्राचीन भारत-तिब्बत सड़क से होकर गुजरेगी, जो कठिन और कच्चे पथरीले रास्तों से भरपूर है और दौड़ने वालों को एक चुनौती देती है। इस प्रतियोगिता के दौरान प्रतिभागी अपनी शारीरिक क्षमताओं के साथ अपनी मानसिक सहनशीलता का भी परीक्षण करेंगे। प्रतिभागी प्राचीन व्यापारियों और खोजकर्ताओं के द्वारा चले हुए रास्तों से होकर गुजरेंगे, जो कभी हिमालय में सबसे पुराना और सबसे रहस्यमय व्यापार मार्ग था। प्रतिभागियों की सुरक्षा के लिए, दि हिमालयन एक्सपीडिशन के आयोजकों ने इस ट्रेल को कड़ी मेहनत से पहचाना और चिह्नित किया है, जिसकी शुरुआत 13 अप्रैल को सुबह 5.30 बजे शिमला के नारकंडा से की जाएगी। यह प्रतियोगिता 14 अप्रैल को एक पुरस्कार वितरण समारोह के साथ समाप्त होगी।

दि हिमालयन एक्सपीडिशन का ‘सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल’ का उद्देश्य साहसिक खेलों को प्रोत्साहित और इस प्राचीन मार्ग के सांस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्त्व को उजागर करना है, जो प्रतिभागियों और दर्शकों के बीच साझेदारी की भावना को बढ़ावा देगा। इसके अतिरिक्त कार्यक्रम का उद्देश्य स्वीप के तहत पात्र युवा मतदाताओं को मतदाता सूची में पंजीकरण करवाने के लिए तथा मतदाताओं को अपने मत का प्रयोग करने के लिए प्रेरित करना है।

इस अवसर पर उपमण्डलाधिकारी (ना.) कुमारसैन के.के. शर्मा सहित अन्य गणमान्य अतिथि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *