सेब की दुर्दशा को कांग्रेस जिम्मेवार अब आयात शुल्क पर राजनीति कर रही कॉंग्रेस, : नरेश शर्मा भाजपा नेता

Spread the love

सेब के आयात शुल्क पर राजनीति कर रही कॉंग्रेस : नरेश शर्मा

न्यूनतम समर्थन मूल्य मात्र काँग्रेस व इसके गठबंधन के नेताओं का झूठ

 

भाजपा किसान नेता व सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश सह संयोजक नरेश शर्मा ने बयान देते हुए कहा की कॉंग्रेस सेबों के आयात शुल्क को बढ़ाने के नाम पर मात्र राजनीति कर रही है जिसका जमीनी हकीकत से कुछ लेना देना नही है प्रदेश में पूर्व की भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश सरकारों ने बागवानों की हमेशा से चिंता की है जिसपर की कोई प्रश्नचिन्ह नही किया जा सकता प्रधानमंत्री मोदी के ‘किसान सम्मान निधि’ जैसी सराहनीय योजना ‘फसल बीमा योजना’ से आज किसानों को नुकसान से बचाया जा रहा है बल्कि किसानों की आय को दुगनी करने के प्रयास भी लगातार जारी है उन्होंने काँग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा की हिमाचल में अगर सेब बदहाली के आँसू रो रहा है तो इसका कारण केवल और केवल मात्र काँग्रेस के कांगड़ा लोकसभा के प्रत्याशी आनंद शर्मा है जिन्होंने की 2011 में विश्व व्यापार संघठन की (डबल्यूटीओ )शर्तों को माना था। पूर्व की जयराम ठाकुर की सरकार ने हिमाचल प्रदेश में 100 करोड़ रूपए की लागत से सबसे बड़ा प्रोसेसिंग प्लांट पराला में लगाया था। सरकारी क्षेत्र में हिमाचल प्रदेश में आज तक का सबसे बड़ा सीए स्टारे एपीएमसी शिमला ने 60 करोड़ की लागत से पराला में बनवाया जिसका श्रेय जयराम की सरकार को जाता है जिससे किसानां और बागवानों को लाभ होगा।

Oplus_131072

भाजपा नेता ने कहा की भारतीय जनता पार्टी हमेशा किसानों के हित की बात करती आई है व पिछली जयराम ठाकुर की सरकार के समय डप्ै (बाजार हस्तक्षेप योजना) में सेब को खरीदा गया और भ्च्डब् व हिमफेड को दिया गया जिसके कारण किसानों को उनका पूरा पैसा समय से मिला पूर्व की जयराम सरकार ने प्रदेश में मार्केट बनाने का काम विस्तृत स्तर पर किया था रोहड़ु ,शिलारू,सैंज,पराला,खड़ापत्थर, कुल्लू और बजौरा की मंडियां भाजपा के समय ही बनकर तैयार हुई राष्ट्रीय बागवानी योजना मिशन के तहत उन मंडियों को समर्थन करने के लिए जो किसी वजह से लगभग 10 करोड़ रुपए बचा था उस पैसे से भी काँग्रेस सरकार ने विदेश घूमने की योजना बना डाली जिसका की भाजपा ने विरोध किया तत्पश्चात इस विदेश यात्रा का कार्यक्रम रद्द हुआ प्रदेश में सबसे पहले शांता कुमार जी की सरकार ने ही फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाया था उसके पश्चात धूमल जी ने ऐसे प्लांट्स को बढ़ाने का कार्य किया पूर्व की जयराम सरकार ने इन प्लांटों को पूर्ण रूप से चलाने का कार्य किया सेब प्रोसेस के बाद की बची पल्प को नाले में फेंक दिया जाता था उसको ऑर्गैनिक खाद बनाने के प्रयास भी किए गए साथ ही पल्प से जैम और जैली बनाने की योजनाओं पर भी काम किया उन्होंने कहा की काँग्रेस ने बागवानों की एंटी हेलगन और हेलनेट की सब्सिडी को भी समाप्त कर दिया वहीं केंद्र की भाजपा सरकार व प्रदेश में पूर्व की भाजपा सरकार बागवानों के हर एक हित की चिंता की है वहीं काँग्रेस व इसके नेता बागवानी को नुकसान पहुंचाने का काम कर रही है काँग्रेस व इसके गठबंधन के नेताओं की सच्चाई का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार ने अपने घोषणा पत्र में की गई न्यूनतम समर्थन मूल्य (डैच्) नही दिया व राजस्थान में अपने 5 वर्ष के कार्यकाल में किसानों का कर्ज माफ नही किया !

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *